info.rsgio24@gmail.com | +91- 8222-08-3075

गांधीजी बकरी के दूध का सेवन नियमित रूप से करते थे, ये विशेष गुण इसमें छिपे हैं।

दुनिया के कई हिस्सों में आज भी लोग बकरी का दूध पीते हैं। बकरी के दूध के कई फायदे हैं और इसमें कई पोषण तत्व पाए जाते हैं।
दूध कैल्शियम और प्रोटीन से भरपूर होता है। दूध को हमेशा शारीरिक विकास और हड्डियों की मजबूती के लिए फायदेमंद माना जाता है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी भी नियमित रूप से दूध का सेवन करते थे। कहा जाता है कि महात्मा गांधी गाय या भैंस नहीं, बल्कि बकरी का दूध पीते थे। गांधीजी हमेशा शुद्ध शाकाहारी भोजन पसंद करते थे। शायद बापू के फिट और स्वस्थ रहने का एक मुख्य कारण उनका संतुलित आहार था। दुनिया के कई हिस्सों में आज भी लोग बकरी का दूध पीते हैं।
बकरी के दूध के कई फायदे हैं और इसमें कई पोषण तत्व पाए जाते हैं। दूध में विटामिन समृद्ध होता है: बकरी का दूध कैल्शियम, प्रोटीन, मैग्नीशियम, पोटेशियम, विटामिन ए, बी 2, सी और डी से भरपूर होता है। हृदय के लिए फायदेमंद: बकरी के दूध में मैग्नीशियम होता है। मैग्नीशियम एक पोषक तत्व है जो दिल की धड़कन को बनाए रखने में बहुत फायदेमंद है। यह रक्त के थक्कों को जमने से रोकता है। यह कोलेस्ट्रॉल के जोखिम को काफी कम करता है। इससे शरीर को भरपूर ऊर्जा भी मिलती है।
बकरी के दूध में पाया जाने वाला तत्व शरीर के वजन को बढ़ने से रोकता है। दूध में बहुत सारा प्रोटीन और कैल्शियम होता है। ये दोनों पौष्टिक तत्व वजन कम करने में बहुत सहायक होते हैं। प्रोटीन मेटाबॉलिज्म बढ़ाने में मददगार है। बकरी के दूध में फैट गाय के दूध से कम होता है। वसा की मात्रा कम होने के कारण इस दूध को सुपाच्य माना जाता है।
बकरी का दूध एनीमिया को रोकने में भी सहायक है। इस दूध में लोहे की प्रचुरता पाई जाती है। इन सभी लाभकारी गुणों के अलावा, कई विशेषज्ञों का मानना ​​है कि ऑलिगोसैकराइड बकरी के दूध में पाए जाते हैं। यह सूजन को रोकने में सहायक है। इस दूध के सेवन से पेट में दर्द या पाचन तंत्र के बिगड़ने की शिकायत भी नहीं होती है।