info.rsgio24@gmail.com | +91- 8222-08-3075

छोटी राई त्वचा को स्वस्थ रख सकती है, उपयोग करना सीखें

राई और राई-जीरा मुख्य रूप से भोजन में तड़के के लिए उपयोग किया जाता है। राई की मदद से कई घरेलू उपचार किए जा सकते हैं और बीमारियों को भी दूर किया जा सकता है।
भारतीय घरों में सरसों को मुख्य मसाले के रूप में उपयोग किया जाता है। राई लेना स्वास्थ्य और सौंदर्य के लिए फायदेमंद है, साथ ही यह भोजन के स्वाद को बढ़ाता है। राई और राई-जीरा मुख्य रूप से भोजन में तड़के के लिए उपयोग किया जाता है। राई के बीज में ओमेगा -3 फैटी एसिड, मैग्नीशियम और सेलेनियम जैसे पोषक तत्व होते हैं, साथ ही फास्फोरस, मैंगनीज, तांबा और विटामिन बी 1 का एक स्रोत होता है।
राई में मौजूद पोषक तत्व सुंदरता बढ़ाने के लिए भी फायदेमंद होते हैं। यह त्वचा को हाइड्रेट करने, उम्र बढ़ने को धीमा करने, संक्रमण का इलाज करने और प्राकृतिक स्क्रब के रूप में राई का उपयोग करने के लिए फायदेमंद है। राई में अनाज में सेलेनियम होता है जिसे एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों वाला तत्व माना जाता है।
सरसों के बीजों के सेवन से सूजन से राहत मिलती है। राई के तेल से मालिश करने से भी सूजन कम होती है। राई के दानों में मैग्नीशियम की महत्वपूर्ण मात्रा होती है, इसलिए राई के बीजों का सेवन अस्थमा, गठिया और निम्न रक्तचाप की समस्या से छुटकारा दिलाता है। भीगे हुए राई के बीजों का सेवन करने से बीमारियाँ नहीं होती हैं।
राई में पर्याप्त मात्रा में नियासिन यानी विटामिन बी -3 होता है, इसलिए राई कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने के लिए फायदेमंद है। रात को पानी में राई भिगोने से उच्च कोलेस्ट्रॉल की समस्या कम हो जाती है।